साहब, आखिर कब शुरू होगा पावर हाउस

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp

झाँसी- सरकार की जनहितकारी योजनाओं को धता बता रहे अधिकारियों की लापरवाह कार्यशैली का एक नमूना बुंदेलखंड के झांसी जनपद के कस्बा कटेरा के विद्युत सब स्टेशन पर देखने को मिला। जिसमे कई करोड़ रुपये खर्च होने के बावजूद यह शो-पीस साबित हो रहा है। इसका खामियाजा नगर के उपभोक्ता चिलचिलाती गर्मी में भुगत रहे हैं।

कस्बे की बिजली व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिहाज से भारत सरकार की योजना के तहत नया बना पावर हाउस को मंजूरी मिली थी। तब कस्बे के लोग यह सोचकर खुश थे कि आने वाले समय में बिजली संकट दूर हो जाएगा लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका। इसका संचालन शुरू होने की समय सीमा गुजरने के बाद भी यह संचालित नहीं हो सका है।

इस योजना को अमली जामा पहनाने की शुरुआत 2015 में हुई थी। दो वर्ष में काम पूरा होकर 2017 में नये विद्युत उप केंद्र को संचालित होना था लेकिन दो साल बाद जून 2019 भी निकल गया। पर अभी तक इस पावर हाउस के संचालन का कोई अता-पता नहीं है। नतीजन नगर के विद्युत उपभोक्ता छह दशक पुराने जर्जर विद्युत उपकेंद्र के सहारे भीषण गर्मी में जी रहे है।

झाँसी जनपद के क्षेत्रो में 4 पावर हाऊस से अधिक नये पावर हाउस का निर्माण होना था। कटेरा पावर हाउस को छोड़कर लगभग सभी संचालित हो चुके हैं। यह पावर हाउस कब चलेगा इसका किसी के पास जबाव नहीं है। नगर के रामभरोसे सोनी, राजेन्द्र जैन, मोहनलाल आर्य, संतोष अहिरवार, राजकुमार जैन,  मनीष सोनी, रविन्द्र साहू, मंगलसिंह चौहान, महेश कटेरिया, विक्रम बुन्देला, शिवशंकर सोनी, मनोज जैन, जगोले जैन, जग्गी नीखरा, राहुल सोनी, दिनेश नीखरा, नीलू गुप्ता, धर्मेंद्र नामदेव, दिनेश साहू, अमित गुप्ता, विवेक राजा, आशीष डेंगरे, राहुल डेंगरे, अरविन्द्र दीक्षित, अर्पित डेंगरे, प्रिन्स जैन, आदर्श डेंगरे आदि लोगों ने जिलाधिकारी झांसी से पावर हाऊस का शीघ्र संचालन कराए जाने की मांग की है।

रिपोर्ट- भूपेन्द्र गुप्ता

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp