Income Tax की Raid में MP के CM कमलनाथ के लोगों के घर से करोड़ों निकले

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव का पहला वोट अभी डाला ही गया है, कि राजनीति एक बार फिर गरमा गई है। इस बार राजनीति गरमाने का कारण राजनीतिक बयान नहीं, बल्कि रातों-रात इनकम टैक्स द्वारा की गई ताबड़तोड़ छापेमारी है। सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है, कि इनकम टैक्स की छापामारी में मुख्यमंत्री कमलनाथ के 9 करीबी लोगों के घर में छापेमारी की गई। रात 3:00 बजे से शुरू हुई छापेमारी में मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी भी शामिल है। बताया जा रहा है कि इस दौरान करीब 9 करोड़ बरामद किए जा चुके हैं।

MP पुलिस और आयकर विभाग भी बेख़बर

यह भी खबर है कि जब आयकर विभाग ने छापामार कार्यवाही की तब ना तो मध्य प्रदेश की पुलिस को इसकी भनक लगी, और ना ही मध्य प्रदेश आयकर विभाग को। इस छापामार कार्यवाही के दौरान केंद्रीय आयकर विभाग ने स्थानीय पुलिस की मदद भी नहीं ली। ऐसे में बड़ी कार्यवाही से एक बार फिर पूरे देश की राजनीति गरमा गई है।

60 फीट गहरे बोरवेल में गिरी 8 साल की बच्ची, सेना ने संभाला मोर्चा, ऑपरेशन जारी

300 अफसरों ने 1 रात में की छापामारी

आयकर विभाग के करीब 300 अधिकारियों द्वारा रातों रात की गई कार्यवाही में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खास कहे जाने वाले और इनके पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के कई ठिकानों पर छापामारी की गई। यह छापामारी विजय नगर, इंदौर, दिल्ली, भोपाल आदि शहरों में की गई। इस खबर से कांग्रेस में हड़कंप मच गया है।

Tik Top (टिक टॉक) एप हो रहा बैन, इसलिए मद्रास हाईकोर्ट ने सरकार को दिया आदेश

CM कमलनाथ के OSD भी IT के लपेटे में

जिन लोगों के ठिकानों पर आयकर विभाग ने की छापामार कार्यवाही की है। उनमें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के अलावा आरके मिगलानी, अमीरा ग्रुप, मोजर बेयर, कमलनाथ के भांजे रातुल पुरी, प्रतीक जोशी आदि शामिल है।
आयकर विभाग ने इंदौर, भोपाल दिल्ली, विजय नगर के अलावा गोवा में भी छापामारी की है। इस दौरान आयकर विभाग की टीम ने स्थानीय और प्रदेश की पुलिस की मदद लेने की बजाय सीआरपीएफ की मदद ली, और छापामार कार्यवाही को अंजाम दिया।

अब व्हाट्सएप खुद बताएगा क्या है फेक और क्या है फेक्ट, अब अफवाह नहीं होंगी वायरल

प्रवीण कक्कड़ की हिस्ट्री

आपको बता दें कि दिसंबर 2018 में मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाया गया था। इस दौरान कमलनाथ के ओएसडी भूपेंद्र गुप्ता थे। बाद में उन्हें हटाकर प्रवीण कक्कड़ को कमलनाथ का ओएसडी बनाया गया था। कक्कड़ मध्य प्रदेश पुलिस में अधिकारी थे, और उन्होंने वीआरएस ले रखा था।

कक्कड़ को झाबुआ सांसद और कांग्रेस के नेता कांतिलाल भूरिया का करीबी माना जाता है। 2004 में नौकरी छोड़ने के बाद़ कक्कर केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बने थे। प्रवीण कक्कड़ को मुख्यमंत्री का खासम खास बताया जाता है। नौकरी के दौरान उन पर कई मामलों की जांच चल रही है।

चैत्र नवरात्रि का महत्व और इससे जुड़ी 10 रहस्यमयी बातें, जो हिन्दू को जानना जरूरी है

आप हमें कमेंट करके हमारी खबर के बारे में अपनी राय रख सकते हैं। और यदि आपको हमारी ये ख़बर अच्छी लगी हैं, और ऐसीं खबरें आप पढ़ना चाहते हैं तो आप हमारा फेसबुक पेज Action News India को लाइक कर सकते हैं। यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं। और ट्विटर पर हमें फॉलो कर सकते हैं। ताकि तभी हमारी सारी खबरें आप तक तत्काल पहुंचे, और आप उनका आनंद उठा सकें।

Sunidhi Mishra

Sunidhi Mishra is Popular indian Web Journalist & Writer. She write news in Action News India. She also Exclusive Editor & Chief Exclusive officer @ Action News India (actionnews.in.).

Bitnami