महोबा में भीषण जल संकट, लोग बोले- नेतन खौ नइयां फुर्सत सुनबे की

लगातार दोहन से भूगर्भ जल स्तर नीचे खिसका हेंडपम्पो में नहीं आ रहा पानी

बेलाताल (महोबा)। लगातार दोहन से भूगर्भ जल स्तर गिरा, हेंडपम्पो में नहीं आ रहा पानी। क्षेत्र में आधे से ज्यादा खराब पड़े। हैंडपंप अनाप-शनाप तरीके से लगातार क्षेत्र पंचायत जैतपुर के अजनर , थुरट , सारंगपुरा , हँसला बसरिया , गुढा , स्यावन , लेवा ,अर्घटमऊ ,महुआबाँध आदि ग्रामों में हो रहे जल दोहन और भीषण गर्मी के कारण लगातार भूगर्भ जल स्तर गिरता जा रहा है। और इसी के चलते अधिकांश लगे हैंडपंपों में पानी आना बंद हो चुका है अधिकांश हेडपंप बंद पड़े हैं।

खूंट की तरह खड़े हेडपंप लोगों को मुंह चिढ़ा रहे हैं। वहीं पानी की पूर्ति पूरी ना होने के कारण लोग पानी को तरस रहे हैं। हेडपंपों पर पानी नहीं आ रहा है। अभी तो मई ही है, और गर्मी के तेवरों ने पिछले कुछ सालों के रिकॉर्ड तोड़े हैं। वहीं हर बार की तरह इस बार भी क्षेत्र के एक तिहाई हेडपंप शोपीस बने हुए, कारण यह की जमीन का जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है।

जिससे हेडपंपों में पानी नहीं आ रहा है। अनुमान के मुताबिक भूगर्भ जल स्तर तक नीचे जा चुका है। बताते चलें कि क्षेत्र पंचायत जैतपुर के ग्रामीणों में 3400 हैंडपंप लगे हुए हैं। जिससे कि 1450 हेडपंप ऐसे हैंडपंप है जिसमें पाइप लाइन बड़ाई गई। पूरी तरह से बंद पड़े हुए हैं। कुछ हेडपंपों पर गंदा पानी आ रहा है। वहीं पानी की किल्लत को देखते हुए लगातार धरती का सीना चीरते हुए समर्सियल पंप डलवाए जा रहे हैं। ज्यादा बदतर स्थिति गांव की है। जहां लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं। सरकारी नलों में पानी ना आने के कारण हेडपंपों में पानी के लिए लंबी-लंबी कतारें लगती हैं । आलम यह है कि लोग अपने साधनों से आते हैं, और पानी भरते हैं तथा ठेले रिक्शे बैलगाड़ी आदि में पानी ले जाते हैं। पानी के लिए बेहाल हैं।

लोगों का कहना है कि सरकारी नलों में जरूरत का पर्याप्त पानी नहीं उपलब्ध हो पाता है। वहीं गंदा पानी आने के कारण उसे पीने के उपयोग में नहीं लाया जा सकता है। साथ ही पानी के लिए मात्र एक साधन है, वह भी खराब पड़े हैं जिसमें पानी आता है, वह गंदा होता है।

केवल वोट मांगने आते हैं नेता

दूसरी तरफ लोगों ने कहा है कि जनता के प्रतिनिधियों तथा जलसंस्थान जेई पवन बेलाताल में कभी नहीं आते। क्षेत्र पंचायत जैतपुर के खण्ड विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार को ग्रामीणों ने कई बार हेडपंपों को ठीक कराने के लिए प्रर्थना पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया, लेकिन आज तक कोई हेडपंपों को ठीक नहीं कराया गया। आक्रोशित लोगों ने कहा है कि अधिकारियों को आम जनता का दर्द तथा उन्हें होने वाली परेशानी पर ध्यान नहीं देती।

क्या बोले जिम्मेदार?

जब इस संबंध में जलसंस्थान जेई पवन से वार्ता करने के लिए मोबाइल फोन नम्बर लगाया तो फोन रिसीव किया, लेकिन कोई जबाब नहीं दिया।
इसी प्रकार खण्ड विकास अधिकारी जैतपुर प्रशांत कुमार से फोन पर वार्ता हुई तो उन्होंने बताया कि क्षेत्र में जल स्तर लगभग 110 फुट से नीचे खिसकने के कारण जो भी हैंडपंप पानी नहीं दे रहे उनमें हेंडपम्पो में पाइप लाइनों को बढ़ाया जा रहा। ड्राई हो चुके उनको बहुत जल्द रिबोर कराए जाएंगे.

रिपोर्ट : जय प्रकाश द्विवेदी

Bitnami