ग्रामीणों की सूझबूझ से आग से ख़ाक होते होते बचा ये पूरा गांव, 3 घर ही जले

कोंच। ग्राम कुदरा खुर्द में दापहर के समय अचानक विद्युत ट्रांसफार्मर में आग लग गई और वह धू धू कर जलने लगा। तेज चल रहीं हवाओं के कारण पास में पड़े कूड़ा करकट ने आग पकड़ ली और देखते ही देखते गांव की ओर बढने लगी। गांव की ओर बढती आग देख ग्रामीणों के होश उड़ गए और आनन फानन पूरा गांव इकट्ठा होकर आग बुझाने में जुट गया। ग्रामीणों ने जैसे तैसे आग पर काबू पाया लेकिन तब तक तीन घरों को आग ने अपनी चपेट में ले लिया था और उनमें रखा भूसा आदि जल गया। गनीमत यह रही कि ग्रामीणों की सूझबूझ के कारण गांव स्वाहा होने से बच गया क्योंकि कोंच फायर सर्विस की बिगड़ी गाड़ी मरम्मत के लिए गई है लिहाजा उस पर भरोसा करके बैठना शायद गांव बालों ने मुनासिब नहीं समझा।

शुक्रवार की दोपहर लगभग एक बजे कोतवाली क्षेत्र के ग्राम कुदरा खुर्द में गांव की सप्लाई के लिए रखे गए विद्युत ट्रांसफार्मर में अचानक ही आग लग गई और वह धू धू कर जलने लगा। चूंकि सुबह से ही तेज हवाएं चल रही थीं सो ट्रांसफार्मर के आसपास पड़े कूड़ा करकट ने आग पकड़ ली और देखते ही देखते आग गांव की तरफ बढने लगी। आग को गांव की ओर बढता देख ग्रामीणों के हाथ पांव फूल गए और कोंच दमकल तथा पुलिस को सूचना देने के साथ ही पूरा गांव हाथों में घड़े बाल्टियां लेकर दौड़ पड़ा और निजी समर्सेबिलों की मदद से आग पर काबू पा लिया लेकिन तब तक लखन कुशवाहा पुत्र बुधू, उसके भाई प्रभु कुशवाहा पुत्र बुधू तथा रामरतन के कच्चे घर जल चुके थे। इन घरों में भरे भूसा और कंडे जल गए। आगजनी में इन लोग का पंद्रह से बीस हजार रुपए के नुकसान का अनुमान है। कोतवाली के दरोगा वीरेन्द्र सिंह दल बल के साथ मौके पर पहुंच गए थे। सूचना के बाद भी दमकल की गाड़ी नहीं पहुंच सकी। बताया गया है कि कोंच फायर ब्रिगेड की गाड़ी खराब है और मरम्मत के लिए गई है। इतने बड़े इलाके में फायर सर्विस में गाड़ी नहीं होना वह भी ऐसे समय में जब चारों तरफ से आगजनी की खबरें आ रहीं हों, वास्तव में शासन प्रशासन की कार्यशैली पर बड़ा सवालिया निशान लगाने के लिए काफी है।

रिपोर्ट : दुर्गेश कुशवाहा

Bitnami