Check the settingsतर्पण के दौरान ये मंत्रोचारण बहुत जरूरी — Action News India
Breaking News
तर्पण के दौरान ये मंत्रोचारण बहुत जरूरी

तर्पण के दौरान ये मंत्रोचारण बहुत जरूरी

श्राद्ध चल रहे हैं , अधिकतर लोग अपने पित्रो की आत्मा की शांति के लिए इसे कर रहे है। कि लोग घरों में। ब्राह्मण भोज करवा रहे हैं तो कई तीर्थ स्थल पर जाकर उन्हें तर्पण दे रहे हैं। जिसको जो बताया गया या जिसका जो रिवाज है वह उस हिसाब से श्राद्ध यानी पितृपक्ष में अपने पूर्वजों के लिए उपासना कर रहे हैं । यदि आप भी ऐसा हो कुछ कर रहे है या मैन बना रहे हैं तो ये आर्टिकल आपके काम का है । इस आर्टिकल में हम बता रहे हैं कि श्राद्ध करने वालों को तर्पण करते बक्त क्या करना चाहिए।

कर्मकांड में निपुण पंडित दीपेश अडजरिया के मुताबिक श्राद्ध में तर्पण करते बक्त मंत्रोच्चारण करना बहुत जरूरी होता है। वह भी अपनी राशि के अनुसार हो तो बहुत ही अच्छा है। इस लेख के माध्यम से जानते हैं कुछ ऐसे ही मंत्र जिन्हें हमें तर्पण करते बक्त उच्चारण करना है।
मेष राशि के जातक श्राद्ध के दिनों में ॐ कुलदेवतायै नमः मंत्र का 21 बार जाप करें। वृष राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ कुलदैव्यै नमः मंत्र का 21 बार जाप कर। मिथुन राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ नागदेवतायै नमः मंत्र का 21 बार जाप करें। कर्क राशि के जातक पितरों की तृप्ति के लिए श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ पितृ देवतायै नमः मंत्र का 108 बार जाप करें। सिंह राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं स्वधादेव्यै स्वाहा मंत्र का 21 बार जाप करें। कन्या राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ऊँ सर्व पितृ प्रं प्रसन्नों भव ऊ मंत्र का 21 बार जाप करें। तुला राशि के जातकों के घर में जिस दिन श्राद्ध हो उस दिन गीता के सातवें अध्याय का पाठ करे । पाठ करते समय कलश में जल भर के रखें, पाठ पूरा होने पर जल सूर्य देव को अर्पित करें और कहें की हमारे पितृ के लिए हम अर्पण करते हें। जिनका श्राद्ध है, उनके लिए आज का गीता पाठ अर्पण।
वृश्चिक राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं स्वधादेव्यै स्वाहा मंत्र का 21 बार जाप करें धनु राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ नागदेवतायै नमः मंत्र का 21 बार जाप करे। मकर राशि के जातकों के घर में जिस दिन श्राद्ध हो उस दिन गीता के सातवें अध्याय का पाठ करे । पाठ करते समय कलश में जल भर के रखें, पाठ पूरा होने पर जल सूर्य देव को अर्पित करें और कहें की हमारे पितृ के लिए हम अर्पण करते हें। जिनका श्राद्ध है, उनके लिए आज का गीता पाठ अर्पण। कुंभ राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ पितृ प्रं प्रसन्नों भव ऊ मंत्र का 21 बार जाप करें। मीन राशि के जातक श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन ॐ कुलदैव्यै नमः मंत्र का 21 बार जाप करें।