Check the settingsकेदारेश्वरधाम-आस्था के मार्ग की उपेक्षा से क्षुब्ध श्रृद्वालु
Breaking News
केदारेश्वरधाम-आस्था के मार्ग की उपेक्षा से क्षुब्ध श्रृद्वालु

केदारेश्वरधाम-आस्था के मार्ग की उपेक्षा से क्षुब्ध श्रृद्वालु

मऊरानीपुर (झाँसी)

सावन के आखिरी सोमवार होने के चलते आज भारी संख्या में श्रृद्वालुओं को सावन के पहले दिन वाली दुर्दशा भरी सडक से केदारेश्वर धाम जाने के लिये गुजरना पडा। आक्रोश जताते हुये प्रशासन की व्यवस्था को कोसा गया, जबकि मौके पर पहुचें जिम्मेदारों ने इस ओर ध्यान ही नही दिया।

यहां के निवासी एवं श्रृद्वालु पुष्पेन्द्र अहिरवार ने बताया कि पूरे साल की अपेक्षा सावन माह में ग्राम रौनी स्थित केदारेश्वर धाम की छटा अलग हो जाती हैं।

कारण श्रृद्वालुओं की संख्या प्रतिदिन हजारों में होंना जिनमें महिलाएं पुरुष शामिल रहते हैं

शिवालय रात दिन बोल बम से गूंजता रहता हैं, पहाड स्थित मंदिर जाने के लिये मुख्य मार्ग पर अन्ना जानवरों के झुण्डों ने इस कदर गोबर की गंदगी फैलाई की पैदल राह चलना दूभर हो गया।

वहीं वाहन से जाने वालों को खासी कवायद करनी पडी, पिछले बर्ष हुये हादसों से सबक लेते हुये मंदिर की व्यवस्था से लेकर सुरक्षा के इंतजाम पुख्ता किये गये।

लेकिन साफ सफाई की ओर ध्यान न देने से श्रृद्वालुओं के चेहरों पर रोष साफ  देखा गया एवं अब्यस्था को जमकर कोसा गया।

उक्त फोटो आज मौके से ली गई जिसमें सामने पहाड पर मंदिर देख सकते है  साथ ही गोबर से दलदल हुये मार्ग की दुर्दशा पर कैसे वाहन निकल रहे है यह सब सामने सच बनकर आ गया।

प्रथम जिम्मेदारी स्थानीय जनप्रतिनिधी की बनती है, इसके बाद सचिव, सफाई कर्मी सहित अधीनस्थों एवं जिम्मेदारो कीं बनती है, ब्लाक खण्ड वी.डी.ओ. ने पर्व पर इस खास मुद्दे पर ध्यान नही नही दिया।

वहीं स्थानीय प्रशासन लगातार यहां भ्रमण कर तमाम ब्यवस्थाओं में लगे रहें, लेकिन श्रृद्वा आस्था के मार्ग पर जिम्मेदार खिलवाड करते नजर आये, ऐसा पहली बार हुआ।

रिपोर्ट- रवि अग्रवाल रठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*