Check the settingsससुराल गयी पुत्री संदिग्ध परिस्थितियों में लापता, अपह्रता को बरामद नही कर सकी पुलिस
Breaking News
ससुराल गयी पुत्री संदिग्ध परिस्थितियों में लापता, अपह्रता को बरामद नही कर सकी पुलिस

ससुराल गयी पुत्री संदिग्ध परिस्थितियों में लापता, अपह्रता को बरामद नही कर सकी पुलिस

मऊरानीपुर (झांसी) पापा में इस समय बंगाल में बदमाशो के बीच फंसी हूं। मुझे या तो बेचा जा रहा है या हत्या हो सकती है मेरी निगरानी कैद में बदमाशों सहित रखा गया है व लगातार निगरानी कर रहे है यदि तत्काल कदम नही उठाया तो…….इसके बाद लाइन कट गई…..? यह तीन माह पहले की बात हैं।

दस माह से लापता पुत्री का केस दर्ज करने के लिये आज तक भटकते पिता की सुनवाई नही हो पाई रही, माथा छिल गया खाकी की चौखट पर रगड़ते-रगड़ते, मुहल्ला शिवंगज निवासी बालकिशन पुत्र मोतीलाल विश्वकर्मा आज कचहरी में सी.ओ. कक्ष के बाहर घूमता साहब को तलाशता मिला।


दिये पत्र में जो बताया उसमे पुलिस की लापरवाही सबसे पहले नजर आई कारण वह सम्बंधित नम्बर 6394**706 को पुलिस जांच में लगवाना चाहता है, लेकिन कार्यवाही तो दूर नम्बर तक सर्विलांस पर नही लग पाया।

उसकी विवाहिता बेटी जिंदा है या मर गई या बेच दिया गया है इसकी इतनी मदद भी पुलिस नही कर रही केस दर्ज करना तो दूर की बात।

साक्ष्यों के साथ बालकिशन ने बताया कि गत 16 अगस्त 17 को उसकी विवाहिता पुत्री कविता ससुरालीजन विदा कराकर ले गये जिसके बाद से वह लापता है, बताया कि ससुराली जनों ने उसकी पुत्री से सादा कागजों में जबरन हस्ताक्षर करवाने के बाद उसे गायब कर दिया, बताया कि उसके नम्बर 96548**527 पर उक्त नम्बर से उसकी पुत्री कविता ने फोन कर गत तीन माह पूर्व गत 9 फरवरी 18 को बताया था कि वह बंगाल में हैं व साजिशन बेचा जा रहा है या हत्या करवाये जाने की आशंका जताते हुये कहा कि वह काफी परेशान हैं।

जब हमारे एक्शन न्यूज के सम्वाददाता को बालकिशुन ने बताया कि उसने अपनी पुत्री कविता की शादी करीब तीन बर्ष पूर्व मुहल्ला गढीपुरा, थाना पृथ्वीपुर जिला टीकमगढ निवासी महेन्द्र पुत्र सुन्दर विश्वकर्मा के साथ की थी।

पुत्री मायके में थी इसी बीच पुत्री को ससुराली जन लेने आये व रुपयों की मांग की बताया कि विदा के बाद काफी दिनों तक ससुराल से कविता का न फोन आया न वह मायके आई।

जब पुत्री के बारे में जानाकरी करने उसकी ससुराल पहुंचा तो पता चला कि उसकी पुत्री श्रीमति कविता ससुराल से गत दस माह पूर्व से लापता है……….?

बालकिशुन के अनुसार तीन माह पूर्व आये फोन पर सिर्फ एक बार बेटी की गुहार सुन पाई इसके बाद काफी पता किया तलाशा लेकिन नही मिली। दिये पत्र में नवागतुंक सी.ओ. से मांग की है कि उसका केस रजिस्टर करवाकर फोन सर्विलांस पर लगवाये जिससे उसकी लापता पुत्री का सच सामने आ सके दस माह से लापता पुत्री को जमीन निगल गई या आसमान खा गया या पाताल में समा गई साथ ही आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग की।
रिपोर्ट- रवि अग्रवाल रठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*