Check the settingsयदि आपने लगा रखी राम नाम की WhatsApp DP तो इस ख़बर को पढ़कर धक्का तो लगेगा ही — Action News India
Breaking News
यदि आपने लगा रखी राम नाम की WhatsApp DP तो इस ख़बर को पढ़कर धक्का तो लगेगा ही

यदि आपने लगा रखी राम नाम की WhatsApp DP तो इस ख़बर को पढ़कर धक्का तो लगेगा ही

whatsapp पर काफी दिनों से एक फोटो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। जिसको लोग बढ़े ही शौक से अपनी डीपी पर लगा रहे हैं। आखिर क्यों लोग इस फोटो को अपने whatsapp की डीपी बना रहे हैं। चलिए जानते हैं इसके पीछे की वजह। बीते कुछ दिनों से रमज़ान पर एक तस्वीर जिस पर भगवान राम का नाम लिखा था काफी वायरल हो रही थी। जिसके साथ एक मेसेज ये भी था कि ईद तक राम नाम की तस्वीर को अपने डीपी से न हटाया जाए। जिसको लोगों ने अपनी डीपी बनाने में तनिक भी देर नहीं की।

जानिए क्या है पूरा विवाद

दरअसल, ईद के मौके पर एक फोटो वायरल की गई थी जिसमें राम लिखा हुआ था कहा ये जा रहा कि जो लोग सच्चे हिंदू हैं वही अपनी डीपी बनाएंगे। इसी के साथ फिर एक और मेसेज भी वायरल किया गया जिसमें ये बताया गया था कि जो राम लिखा है उसमे खंजर हैं और अगर इसे करीब से देखा जाए तो इसमें आपको कटे हुए जानवर भी मिलेंगे। ऐसे में ये मामला और पेचिदा हो जाता है जिससे ये मालूम पड़ता है कि ये फोटो हिंदुओं ने नहीं मुसलमानों ने वायरल की है।

ऐसे में ये भी माना जा रहा है कि इस तस्वीर को वायरल करने के पीछे मुस्लिमों की साजिश है साथ ही वे हमारी हिंदू धर्म और उनकी आस्था को ठेस पहुचाना चाहते हैं। लेकिन कई बार ऐसा भी देखा जा चुका है कि हिंदू धर्म की आस्था को हानि पहुचाने के लिए साइबर नेट इस तरह के हथकंडे अपनाता है जिससे हिंदू धर्म और बाकि धर्मों के बीच आपसी संबंध बिगड़ सके।

जब मामले का किया खुलासा

जब हम इस मामले की तह तक पहुंचे तो हमें मालूम पड़ा कि इस तस्वीर का खुलासा एक बच्चे के द्वारा किया गया है बता दें कि, एक बच्चे ने इस बात का खुलासा करते हुए बताया कि ये सब मुसलमानों की साजिश है। बच्चा फोटो को ज़ूम करके समझा रहा था, और हम समझ रहे थे। बच्चे ने कहा, हाय फ्रेंडस, मैं ‘नरेश’ आपके सामने एक हक़ीकत लेकर आया हूं। ‘देखिए’, आप सबने व्हाट्सऐप में ये डीपी रखी है। राम नाम का लेकिन ये हकीकत में राम नाम का है ही नई।

इस डिपी का करें विरोध

ये आप लोगों को, हिंदू लोगों को, उल्लू बनाने के लिए मुसलमानों ने ये तरीका खोजा है। गौर करने वाली बात तो यह है कि जहां लोग बोलते हैं हिंदू मुस्लिम भाई-भाई वहीं इस तरह कि उद्दंडता का क्या मतलब है। अगर हिंदू मुस्लिम भाई-भाई ही हैं तो इतनी रंजिशे किस लिए और धर्म के नाम पर क्यों आस्था का गला घोंटा जा रहा है। बाकि तो आप समझदार हैं ही इतना तो समझ ही गए होंगे की राम के नाम वाली डिपी को आस्था न समझे क्योंकि ये एक सोची समझी चाल है। कृप्या इस डिपी को न लगाकर अपने धर्म और आस्था के साथ खिलवाड़ न करें।

रिपोर्ट : आशुतोष नायक/श्रेया सिंघल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*