Check the settingsबहुचर्चित रितिक हत्याकांड का 18 माह बाद खुलासा
Breaking News
बहुचर्चित रितिक हत्याकांड का 18 माह बाद खुलासा, जिला पंचायत सदस्य समेत 4 का हाथ

बहुचर्चित रितिक हत्याकांड का 18 माह बाद खुलासा, जिला पंचायत सदस्य समेत 4 का हाथ

ललितपुर। ललितपुर के बहुचर्चित रितिक हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है । इस में पुलिस ने जिला पंचायत सदस्य समेत चार लोगों पर रितिक की हत्या करने का खुलासा करते हुए ,तीन को गिरफ्तार कर लिया है । करीब 18 माह बाद हुई रितिक की हत्या का अब तक खुलासा न होने के कारण बीते दिन परिजनों के आमरण अनशन करने की चेतावनी के बार पुलिस ने इस पर एक्शन लेते हुए इस मामले से पर्दा हटाया है।

छेड़खानी के विरोध में हुई थी रितिक की हत्या

आपको बता दें कि बीते 18 माह पहले 22 मई को 16 वर्षीय रितिक उर्फ मयंक ललितपुर के तालबेहट से अचानक गायब हो गया था । दूसरे दिन ऋतिक के पिता वासुदेव पटेरिया ने इसकी तहरीर देकर थाना बार में गुमशुदगी दर्ज कराई थी । जिसके बाद 26 मई को रितिक पटेरिया का शव बेतवा नदी के झरझर घाट पर मिला था इस घटना से पूरे जिले का ध्यान आकर्षित हो गया था लेकिन पुलिस ने इस गांड में किसी को भी गिरफ्तार नहीं कर पाई थी बीते 18 माह में पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंचे जबकि मामला लगातार किसी न किसी वजह से चर्चित बना रहा बीते दिनों रितिक के परिजनों ने पुलिस को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि मामले का खुलासा और आरोपियों को नहीं पकड़ा गया तो वह आमरण अनशन के लिए बाध्य होंगे ।

जिला पंचायत समेत इन 4 ने की थी हत्या

इसके बाद हरकत में आई जिला पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई SP सलमान इस मामले की जांच के लिए थाना प्रभारी रामसहाय के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर दिया इस दौरान बीते दिन पुलिस ने ऋतिक हत्याकांड में सफलता हासिल कर ली । SP ललितपुर सलमान ताज ने मीडियाकर्मियों को जानकारी देते हुए बताया कि 18 माह पहले जिला पंचायत सदस्य और उसके तीन साथियों ने मिलकर रितिक की हत्या कर शव को बेतवा नदी में डाल दिया था। इस दौरान एसएसपी ने रितिक की हत्या का कारण, उसकी बहन को आए दिन परेशान करने और रितिक द्वारा उसका विरोध करने को लेकर की गई। पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि रामनगर खांदी निवासी मयंक चौबे ,ऋतिक की बहन को आए दिन परेशान करता था । जिसको लेकर इसकी जानकारी ऋतिक को हो गई।

रितिक मयंक चौबे के बीच में कील बनकर सामने आ गया। इससे हटाने के लिए मयंक चौबे ने जिला पंचायत सदस्य उदय प्रताप सिंह यादव उर्फ गुड्डू यादव के साथ मिलकर रितिक की हत्या की साजिश रच डाली , और 23 जुलाई को रितिक की हत्या कर शव को बेतवा में फेंक दिया । इस हत्याकांड में जिला पंचायत सदस्य और मयंक चौबे के अलावा कडेसरा निवासी ड्राइवर मनोज झा भी शामिल था । और लल्लन पाठक भी इस हत्याकांड में बराबर का हिस्सेदार है। पुलिस ने जिला पंचायत सदस्य को छोड़कर बाकी तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है । जबकि पुलिस जिला पंचायत सदस्य की गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ छापामार कार्यवाही कर रही है।
रिपोर्ट : श्याम सुंदर शर्मा