Check the settingsमहकमा-ए-सेहत में कैसे हो सुधार जब ऐसे हैं हालात?
Breaking News
महकमा-ए-सेहत में कैसे हो सुधार जब ऐसे हैं हालात?

महकमा-ए-सेहत में कैसे हो सुधार जब ऐसे हैं हालात?

मऊरानीपुर(झांसी) डाक्टर्स व उपकरणों, दवाओं के अभाव में बीमार पडे अस्पताल का उपचार कराने के लिये स्वास्थ एवं चिकित्सा मंत्री उ.प्र. सरकार व सी.एम.ओ. झांसी से गुहार लगाते हुयेे दिये झापन में बताया गया कि अस्पताल में फिजीशियन, हड्डी, हार्ट, नेत्र, सहित गम्भीर बीमारियों से सम्बंधित डाक्टर्स अस्पताल में तैनात किये जाये।

समाजसेवी राजेन्द्र राहुल ने आज डाक्टर रामसहोदर राजपूत के द्वारा भेजे पत्र में बताया कि चिकित्सों के नाम पर जो तैनाती वर्तमान में हैं उसमें कुछ डाक्टर अन्डर ट्रांसफर हैं जिसके चलते आम जनमानस निशुल्कः उपचार के लिये उम्मीद से अस्पताल आता है, लेकिन यहां से निराश होकर लौट जाते है या उन्हैं तत्काल रिफर कर दिया जाता है।
ऐसे में गरीब बीमार का उपचार यहां नही हो पाता उक्त व्यव्स्था में अल्ट्रासाण्उड मशीन, डिजीटल एक्सरे प्लेट आवश्यक जीवन रक्षक दवाईयां व डाक्टर्स अस्पताल में उपलब्ध कराई जायें।

इसके अलावा नगर की घनी आबादी में बने पी.एम. हाउस को अस्पताल परिसर मे बनायें जाने की मांग करते हुये ईमरजेंसी में तत्काल उपचार हेतु दो अन्य विशेषझ डाक्टर तैनात किये जायें।

इस मौके पर बृजबिहारी राज, महेश महाजन, महेन्द्र नामदेव, प्रकाश अटल, आशु भारद्वाज, सुरेश वर्मा, कैलाश पस्तोर, बृजेश भारती, संजू अहिरवार, सीताराम पूर्व प्रधान, महेन्द्र सिंह धौनी प्रधान, इसरायल राईन, बहीद मंसूरी, सुरेन्द्र चैबे, वीनू शर्मा, अखिलेश लिटौरिया, राजेश आर्या, रामाधार निषाद, जगदीश श्रीवास, जगदेव शर्मा, रमेश नायक, राजू गिरी, अशोक स्यावनी, रमेश कुशवाहा, संदीप विश्वकर्मा बंटी सोनी, संजय अग्रवाल, प्रभाकर पांचाल, वीरेन्द्र नगायच, रमेश रैकवार आदि मौजूद रहे।
रिपोर्ट- रवि अग्रवाल रठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*