Check the settingsअन्य दवाओं से 50 से 200 गुना सस्ती होती है जेनेरिक दवाएं — Action News India
Breaking News
अन्य दवाओं से 50 से 200 गुना सस्ती होती है जेनेरिक दवाएं
generic medicine

अन्य दवाओं से 50 से 200 गुना सस्ती होती है जेनेरिक दवाएं

नोएडा । जेनरिक दवाओं के इस्तेमाल से इलाज पांच से दस गुना तक सस्ता हो सकता है। कई दवाओं के दाम में 50 गुना से 200 गुना तक का भी फर्क होता है। ड्रग विभाग का दावा है कि जेनरिक दवाएं ब्रांडेड से कम असरदार नहीं हैं। इसलिए, जनता इस पर पूरा भरोसा कर सकती है। ज्यादातर ब्रांडेड दवा बनाने वाली कंपनियां ही जेनरिक दवाएं भी बनाती हैं। दोनों ही दवाओं के सैंपल समय-समय पर प्रयोगशाला में जांच भी कराए जाते हैं।

मरीजों को भ्रमित ऐसे करते हैं डॉक्टर

ड्रग विभाग के अनुसार कुछ डॉक्टर जेनरिक दवाओं की गुणवत्ता को संदिग्ध बताकर मरीजों को गुमराह करने का काम कर रहे हैं, जबकि ऐसा नहीं है। सिर्फ रख-रखाव, पैकेजिंग, रिसर्च व मार्केटिंग इत्यादि में कंपनियों के ज्यादा पैसे खर्च होते हैं। इस कारण ब्रांडेड दवाएं महंगी हो जाती हैं। जेनरिक दवाओं की पैकिंग सामान्य होती है। इनका प्रचार-प्रसार नहीं किया जाता। इसलिए यह सस्ती होती हैं, लेकिन इनकी गुणवत्ता ब्रांडेड से कम नहीं होती। हालांकि, कुछ जेनरिक दवाओं का अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) ब्रांडेड दवाओं के आसपास ही होती है। इस वजह से मरीजों की जेब को उतना फायदा नहीं मिल पाता। विशेषज्ञ मानते हैं कि मूल्य नियंत्रण व गुणवत्ता के लिए सरकार कोई नियामक एजेंसी बनाए तो जेनरिक दवाओं से बेहतर कोई विकल्प नहीं है।

क्या होतीं हैं जेनरिक दवाएं ?

जेनरिक व ब्रांडेड दवाओं का कंपोजीशन समान होता है। किसी बीमारी के लिए तमाम शोधों के बाद एक रासायनिक यौगिक को विशेष दवा के रूप में देने की संस्तुति की जाती है। इस यौगिक को अलग-अलग कम्पनिया अलग-अलग नामों से बेचती हैं। जेनरिक दवाओं का नाम उसमें उपस्थित सक्रिय यौगिक के नाम के आधार पर एक विशेषज्ञ समिति निर्धारित करती है। किसी भी दवा का जेनरिक नाम पूरी दुनिया में एक ही होता है। यह बिना किसी पेटेंट के बनाकर वितरित की जाती हैं। इनकी डोज, साइड- इफेक्ट, सामग्री आदि सभी ब्राडेड दवाओं के एकदम समान होती हैं। इनके मूल्य पर सरकारी अंकुश होता है।

जेनरिक दवाएं ब्रांडेड की तरह ही लाभकारी और असरदार हैं। जो भी दवा बाजार में आती है, ड्रग विभाग उसकी गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए समय-समय पर सैंपलिंग करता रहता है। सिर्फ पैकेजिंग, रिसर्च इत्यादि के कारण ब्रांडेड दवा महंगी होती है, लेकिन जेनरिक की गुणवत्ता समान होती है।

-दीपक शर्मा, जिला औषधि निरीक्षक, गौतमबुद्ध नगर

रिपोर्ट : दीपम अग्रवाल