Check the settingsDSP अभय नारायण राय की गोद में बैठ ढाई साल की मासूम ने कराया समझौता
Breaking News
DSP अभय नारायण राय की गोद में बैठ ढाई साल की मासूम ने कराया समझौता
DSP अभय नारायण राय

DSP अभय नारायण राय की गोद में बैठ ढाई साल की मासूम ने कराया समझौता

झाँसी न्यूज़। आपने पुलिस के कई चेहरे देखे होंगे , और यदि आप यूपी या इसके आसपास के क्षेत्र से ताल्लुक रखते होंगे तब तो आप यूपी पुलिस के चेहरे से भी बखूबी बकिफ होंगे, ये लाइन पढ़कर यदि आपके जेहन में पुलिस की नकारात्मक और अक्सर फिल्मों में आने वाले पुलिस के सीन उभर कर आ रहे हैं तो उसका तोड़ लेकर ये स्टोरी आपके सामने आ रही हैं, ये कहानी है यूपी पुलिस के DSP अभय नारायण राय की जो अपनी कार्यप्रणाली को लेकर अक्सर चर्चाओं में रहते हैं, और लगातार पुलिस की नकारात्मक छवि को लोगों के दिमाग से हटाने का प्रयास कर रहे हैं ।

हाल ही में DSP अभय नारायण राय की गोद में ढाई साल की मासूम बच्ची लिए फोटो खूब वायरल हो रही है, इसके साथ ही उन्होने इस बच्ची से संबन्धित स्टोरी भी सांझा की है। जिससे एक बार फिर DSP अभय नारायण राय की चर्चा झाँसी के चौक चौराहो पर हो रही है. आइये जानते हैं क्या है ढाई साल की बच्ची की कहानी

DSP में अभय नारायण राय की Facebook वाल से

DSP अभय नारायण राय jhansi

आज ऑफिस में जनता दर्शन के दौरान एक दंपती अपने अपने परिजनों के साथ आए. साथ में एक छोटी सी बच्ची भी थी। पति पत्नी पिछले साल से अलग अलग रह रहे हैं। लेकिन समस्या थी बेटी की वो कहाँ रहे अपने पिता के घर या मम्मी के साथ नानी के घर में। बच्ची की उम्र और सर्वोत्तम हित को देखते हुए कुटुम्ब न्यायालय ने आदेश दिया कि बेटी माँ के साथ रहेगी।
लेकिन बच्ची की परवरिश और भरण पोषण के लिए धन कहाँ से आये? Iइसके लिए पत्नी ने एक प्रार्थना पत्र लिखा जिसकी जांच मुझे मिली। जांच के लिए मैंने दौनों पक्षों को ऑफिस बुलाया था।

कौन क्या बोला ?

  • पत्नी :- ये मुझे बिना वजह मारते पीटते हैं मैंने 4 साल तक इस उम्मीद में सहन किया कि शायद ये मुझे समझ जाएंगे तो कभी नहीं मारेंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मेरी सहन शक्ति को इन्होने मेरी मजबूरी और कमजोरी मान लिया और समय बीतने के साथ इनका उत्पीड़न बढ़ता ही गया।”
  • पति :- साहब जब किसी बात पर मुझे शक होता है तो मैं पूछता हूँ। इस पर जवाब देने के बजाय ये मुझसे झगड़ने लगती है। “
  • बेटी :- (उम्र 2.5 साल चेहरे के साथ साथ दिल से मासूम) मैं आपके पास आकर बताऊँ? हाँ में जवाब पाकर आकर मेरी गोंद में बैठ कर बताया कि मम्मी पापा दोनों लोग झगड़ा करते हैं।
    मैंने पूछा कि फिर मैं दोनों की पिटाई करूँ?
    बच्ची ने सिर हिलाकर ना में जवाब दिया।
    फिर झगड़ा कैसे समाप्त होगा?
    जवाब आया सिर्फ पापा की पिटाई करो…. वो मम्मी को मारते हैं।
    फिर एक घंटे तक मैंने दोनों को समझाया और दोनों ने अपनी अपनी गलती का एहसास किया और शपथ पत्र के माध्यम से समझौता लिख कर बेहद खुशी के साथ एक होकर रहने को तैयार हो गए।
    वाह रे ईश्वर माँ बाप को राह दिखाने वाला दीपक घर में ही भेज दिया लेकिन उसे भी वे नहीं देख पा रहे थे और जब मेरी गोंद में बैठ कर उसने रोशनी डाली तो पूरे परिवार को अपनी अपनी गलती का एहसास हो गया…… शायद तभी तो कहा जाता है कि “Child is the father of a man”
    बेटी आप केवल बेटी नहीं बल्कि देवी हो, आपने दो परिवारों को बिखरने से बचा लिया 

यह भी पढ़ें : CO टहरौली अभय नारायण राय की पंक्तियां सुन सन्न रह गए बड़े-बड़े बिद्वान, आप भी देखें यह वीडियो

सीओ टहरौली अभय नारायण राय DSP ने इस तरह दी शहीदों को श्रद्धांजलि, देखें Video

टहरौली में नारी सुरक्षा सप्ताह के दौरान DSP अभय नारायण राय ने लगाई छात्राओं की पाठशाला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*