Check the settingsBJP नेता ने किया BDC का अपहरण,मंत्री ने लगाया दरोगा को फोन, Audio वायरल
Breaking News
BJP नेता ने किया BDC का अपहरण,मंत्री ने लगाया दरोगा को फोन, Audio वायरल

BJP नेता ने किया BDC का अपहरण,मंत्री ने लगाया दरोगा को फोन, Audio वायरल

ललितपुर। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्ता में में अभी 6 महीने भी नहीं हुए कि यहां भाजपाइयों द्वारा कूटनीति करने के मामले प्रकाश में आते जा रहे हैं। ब्लाक प्रमुख की सीट को लेकर जगह जगह दावपेंच लगने शुरु हो गए हैं । इसी क्रम में एक मामला ललितपुर से भी सामने आ रहा है । यहां से ब्लॉक प्रमुख की सीट पर काबिज समाजवादी पार्टी के नेता के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर भारतीय जनता पार्टी के एक नेता ने BDC का अपहरण कर लिया । जिसके बाद यहां सियासी सरगर्मियां तेज हो गई है । मामले की जांच कर रहे सब इंस्पेक्टर को जिलाध्यक्ष , मंत्री समेत कई भाजपा के नेता लगातार फोन कर दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ ललितपुर के अपर पुलिस अधीक्षक ने भी सब इंस्पेक्टर को बेवकूफ कहते हुए तमाम हिदायतें दे डालीं।

अपहरण के बाद पिता की अन्येष्टि में 10 मिनट को ले गये

इस समय ललितपुर जिले की मड़ावरा ब्लॉक के ब्लॉक प्रमुख चंद्रदीप रावत हैं. रावत सपा से जुड़े हैं. बताया जा रहा है कि इनके खिलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी है. बताया जा रहा है कि इसके लिए बीजेपी से जुड़े विक्रम सिंह कोशिश कर रहे हैं. विक्रम सिंह अपने बेटे दिग्विजय को चुनाव में उतारना चाहते हैं. फिर से चुनाव कराने के लिए अविश्वास प्रस्ताव के लिए जोड़-तोड़ चल रहा है. 18 सितम्बर को मड़ावरा ब्लाक के थाना गिरार के गाँव गिरार के रहने वाले क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) दलित मगुन्ते तनय अहिरवार को उसके घर से किडनैप कर लिया गया. इसके दो दिन बाद ही मगुन्ते के पिता की मौत हो गयी.

मगुन्ते को अन्येष्टि के लिए जीप द्वारा उसके गाँव ले जाया गया. पुत्र महेंद्र अहिरवार के अनुसार विक्रम सिंह और उसके साथी सिर्फ दस मिनट बाद ही उसके पिता को ले जाने लगे. गाँव वालों ने विरोध किया और कहा कि बाकी कर्म काण्ड भी होने हैं. इस पर उक्त लोगों ने बंदूकें तान दी और पूरे गाँव के सामने फिर से उसके पिता को ले गये.

डीएम से की शिकायत, जांच के आदेश हुए, SI कर रहे मामले की जांच

18 सितम्बर को ही मड़ावरा में समाधान दिवस चल रहा था. यहाँ डीएम भी मौजूद थे. गाँव वालों के साथ किडनैप हुए पिता के बारे में शिकायती पत्र दिया. डीएम ने इसकी जांच पुलिस को सौंपी. जांच की जिम्मेदारी थाना इलाके की गिरार चौकी के सब इंस्पेक्टर संजय कुमार को मिली. संजय कुमार के अनुसार वह बारिश के बीच गाँव गये. पूरे गाँव ने उन्हें किडनैपिंग की बात बताई. इसके बाद संजय कुमार ने आरोपी बीजेपी नेता विक्रम सिंह को कॉल किया. उन्होंने खुद के दिल्ली में होने की बात कही और फ़ोन कट गया.

योगी के मंत्री बोले- विपक्षी पार्टी आगे न बढ़ जाए इसलिए सब इकट्ठे किये हैं

जिलाध्यक्ष रमेश लोधी द्वारा फ़ोन किये जाने के बाद सब इंस्पेक्टर के पास यूपी के सेवायोजन मंत्री मनोहर लाल उर्फ़ मन्नू कोरी, जो ललितपुर की महरौनी सीट से एमएलए भी हैं, का फ़ोन पहुँच गया. सब इंस्पेक्टर ने अपना नाम बताकर गुड आफ़्टर नून कहा. इस पर ओके-ओके कहते हुए इस तरह से बात की.

यह हुई मंत्री और SI के बीच बात

मंत्री मनोहर लाल- ‘हाँ, हम ये कह रहे हैं कि विक्रम सिंह के ऊपर कोई केस करना चाहते हैं क्या.

सब इंस्पेक्टर- इस मामले में जिलाध्यक्ष का फ़ोन आया. हमने कहा कि भैया हम भी सब इंस्पेक्टर हैं, सपा सरकार की तरह धमकी न दो. हम भी लोक सेवक हैं.

मंत्री- आप लोगों को तो सब मालूम है न कि कोई ऐसी बात नहीं है. वो (यानि बीडीसी) अच्छी तरह से है. सुरक्षित है. और उसका वो बाप मर गया था तो वो अर्थी-वर्थी में आये थे और साथ में गये थे. भई क्या है कि ब्लाक प्रमुख के चुनाव चल रहे हैं न.

सब इंस्पेक्टर : जी-जी-जी, मेन प्रकरण तो वही है. हम कह रहे हैं ये जो आरोप लगा है, ये सत्य है या असत्य है.

मंत्री- हाँ तो कोई दिक्कत नहीं है. सब इकट्ठे हैं वो लोग. और कोई दिक्कत नहीं हो, उनके (विपक्षी पार्टी के) आदमी न बढ़ जाएँ, बस यही चक्कर है दोनों का. उसमें ऐसी कोई बात नहीं है कि अपहरण हो.

सब इंस्पेक्टर : अरे डीएम साहब बड़ा कर्रा (सख्त) लिखे हैं क्या बताएं.

मंत्री : हां. वो तो सभी तो पता है. डीएम, एडीएम सब जानते हैं.

सब इंस्पेक्टर : चलिए ठीक है आप सीओ साहब को कॉल कर लीजिये. उन्हें बता दीजिये.

मंत्री : हाँ, मैंने सीओ साहब का फ़ोन लग नहीं रहा. कह देता उनसे भी. जानते सब हैं. आप जानते. दरोगा जी जानते. अपहरण का तो सवाल ही नहीं उठता. अपना समझ के कर लेना जांच. सब अपने ही हैं.

एएसपी ने लगाई फटकार, सब इंस्पेक्टर को कहा-बेवक़ूफ़ टाइप के हो

नेताओं द्वारा कॉल किये जाने के बाद अपर पुलिस अधीक्षक विजय बहादुर सिंह विजेता ने भी सब इंस्पेक्टर फटकार लगाई. कहा कि मामले की जांच सीओ साहब करेंगे. तुम्हें तमीज़ नहीं कैसे बात की जाती है. सब इंस्पेक्टर ने कहा कि सर एक रमेश हैं, उनका फ़ोन आया था. इस पर अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि एक रमेश नहीं वो जिलाध्यक्ष हैं. तुम लोग लड़ने-झगड़ने लगते हो. नेता, मंत्री, जिलाध्यक्ष जो भी है, उनसे हाँ-हूँ कर के बात करो. तुम लोग बेवक़ूफ़ टाइप के हो.

रिपोर्ट : सुल्तान आब्दी

एक्शन न्यूज़ का एंड्राइड मोबाइल एप डाऊनलोड करें. हमें आपट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और गूगल+ पर भी फॉलो कर सकते हैं। ताजा वीडियो के लिए लाइक करें हमारा यूट्यूब चैनल. हमसे जुड़ने के लिए मेल करें actionnewsindia@gmail.com पर.
https://youtu.be/gAQ3UXm-kso

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*