Check the settingsमऊरानीपुर में 40 गौवंश की मौत के बाद भी नहीं दिखा ये जिम्मेदार, लोगों ने लगाए तरह तरह के कयास — Action News India
Breaking News
मऊरानीपुर में 40 गौवंश की मौत के बाद भी नहीं दिखा ये जिम्मेदार, लोगों ने लगाए तरह तरह के कयास

मऊरानीपुर में 40 गौवंश की मौत के बाद भी नहीं दिखा ये जिम्मेदार, लोगों ने लगाए तरह तरह के कयास

मऊरानीपुर(झॉसी)। कल मण्डी में मिले मृत गौंवंश के मामले में प्रशासन देर रात से कमर कस कर मण्डी में कैम्प कर मौजूद सैकडों गायों व अन्य जानवरों को मण्डी में हांकां चलाकर उन्हैं गेट से बाहर निकाला व गेट पर पहरा लगाया गया। 

आज सुबह से पूरे दिन फिर कल की घटना आज दिन भर जनता के बीच चर्चा में रही। वहीं कोतवाल सुनीत सिंह ने अपना तजुर्बा झोंकतें हुये अपनी ओर से कोई कोर कसर नही छोडी कल के बबाल को देख आज अम्बेडकर तिराहे पर पी.ए.सी. व पुलिस बल तैनात कर दिया व आदेश दिये कि जाम न लग पाये . मौके पर एस. आई. के.के. मिश्रा मौजूद रहे . वही आज ढूंढने के बाद मण्डी सचिव मनीष सिंह नही मिले।
मण्डी में साफ सफाई के अलावा गल्ला ब्यापारियों सहित सब्जी फरोंशो को अल्टीमेटम दिया कि वह तय स्थान पर ही कूडा डाले जिससे वहां नियमित सफाई हो . आगे कोई ऐसी घटना की पुनरावुत्ति न हो।

आज दिन भर प्रशासनिक अमला मण्डी में ही लगातार घूमता दिखाई दिया, बता दें कि मण्डी के गल्ला ब्यापारियों का माल जो फुटकर खरीद कर बेयर हाउस में रखा जाता है . उसे सुरक्षित रखने के लिये घातक जहरीले कीटनाशक का प्रयोग होता है. जब वही माल बेयर हाउस में मण्डी में थोक के भाव बिकने ट्रकों पर लदने आता है तो उसकी छनाई आदि के बाद निकला कचडा जो जहरीला हो सकता है . वह जगह जगह डाल दिया जाता है। इसके अलावा मण्डी में सुबह की सब्जी मण्डी में अन्य प्रदेशों से मौसमी फल सब्जी कच्ची हालत में आते है जिन्हैं मण्डी में अपने अपने परिसरों में रख जहरीले घातक रसायन का छिडकाव होता है व घासफूस में ढक कर रख दिया जाता है। जो चंद समय में पक जाते हैं उनके बिकने के बाद यह कचरा यही डाला जाता है। 
ऐसे मे पूरे मामले में मण्डी प्रशासन कटघरे मे खडा हो गया अब उसके सामने पहली चुनौती है कि आवारा जानवर मण्डी में न आ पाये व उक्त कूडा कचरा गंदगी जो जगह जगह फेंकी जाती है उसे तय स्थल पर ही डलवाये व नियमित सफाई करवायें। कारण बताया गया कि कोई जहरीला पदार्थ खाने से अचानक गौंवंश की मौत हुई हैं जिसका जांच बिसरा जांच के लिये भेज दिया गया हैं।
रिपोर्ट : रवि रठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*