Check the settingsनिवाड़ी विधानसभा सीट : भाजपा के लिए फिर खतरे की घंटी
Breaking News
निवाड़ी विधानसभा सीट : भाजपा के लिए फिर खतरे की घंटी
निवाड़ी दीपनारायन सिंह

निवाड़ी विधानसभा सीट : भाजपा के लिए फिर खतरे की घंटी

नई दिल्ली: जब जब लोकसभा चुनाव आते हैं तब तक भारतीय जनता पार्टी राम मंदिर या फिर हिंदू-मुस्लिम राग अलाप कर अपनी हवा बना ही लेती है लेकिन मध्य प्रदेश में एक विधानसभा ऐसी भी है जहां से भाजपा को आजादी के बाद से अब तक अपनी जीत हासिल नहीं हुई। जिसके बाद से भाजपा ने यहां भी राम मंदिर के समानांतर एक मुद्दा हवा में लहरा दिया है । लेकिन सवाल यह है कि क्या यह मुद्दा मध्य प्रदेश की निवाड़ी विधानसभा सीट में फिर कारगर होगा या नहीं। जानिए आखिर क्या है वह मुद्दा?

रोचक है इस विधानसभा की कहानी

एक अक्टूबर से जिला बने निवाड़ी विधानसभा सीट की कहानी बड़ी रोचक है. यहां से 2008 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी ने मप्र में एकमात्र सीट निवाड़ी जीत कर अपना दबदवा कायम किया था और विधायक मीरा यादव चुनी गईं और भाजपा-कांग्रेस क्रमश: दूसरे व तीसरे स्थान पर रहीं. मीरा 2013 का विधानसभा चुनाव भाजपा के अनिल जैन से हार तो गईं. लेकिन यहां भी खास बात ये है कि मीरा के वोट में भाजपा अब भी सेंध नहीं लगा पाई। मीरा दीपक यादव को जहां 2008 में 34 हजार सात सौ इकतालीस मत मिले तो वहीं 2013 में भी मीरा दीपक के वोटों पर खास असर नहीं पड़ा। 2013 में मीरा यादव को 33 हजार से ज्यादा मत मिले। ऐसे में यहां से भाजपा को अपना विजयी पताका फहराना बड़ा ही मुश्किल साबित हो सकता है।

तो इस बजह से भाजपा को फिर देखना पड़ेगा हार का मुह

कहा जाता है कि आजादी के बाद से भाजपा को निवाड़ी विधानसभा सीट से विजयी का मुँह देखने को नहीं मिला। तब जाकर भाजपा ने यहां से हर हाल में जीत हासिल करने के लिए भाजपा ने यहां के लोगों को फुसलाकर निवाड़ी कस्बे को स्वंम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आकर जिला बनाये जाने की घोषणा कर दी। सिर्फ जिले की घोषणा भर से यहां की जनता ने भाजपा को जीता दिया। लेकिन यह क्या जीतने के बाद जिले कीं बाते अब हबा हबाई साबित होने लगी। हालांकि यहां से भाजपा से विजयी हुए अनिल जैन अक्सर सार्वजनिक कार्यक्रमों में लोगों को 3-3 महीने का समय देकर टरकाते रहे। इससे भी यहां के लोग भाजपा से आक्रोशित हैं। और फिर से मीरा दीपक यादव के पक्ष में समीकरण बनते हुए देखे जा रहे हैं।

निवाड़ी को एक बार फिर लॉलीपॉप

अब फिर से चुनाव की गहमागहमी शुरू हो गई है तो भाजपा ने राम मंदिर मुद्दे की तरह यहां के लोगों को एक बार फिर अपनी तरफ खींचने के लिए निवाड़ी को एन चुनावी समय पर जिला घोषित कर दिया। लेकिन यहां भी पेंच है। पेंच ये है कि जब भाजपा को निवाड़ी को जिला बनाना ही था तो चुनाव की आचार संहिता लागू होने से कुछ ही दिन पहले घोषणा क्यों की गई। लोगों को लग रहा है इसमें भी भाजपा की दोबारा से चुनाव जीतने की जरूर कोई चाल है।

2013 निवाड़ी विधानसभा चुनाव

अनिल जैन: 60395 (भाजपा- जीते)
मीरा दीपक यादव: 33186 (सपा- हारे)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*