Check the settingsदीपनारायण सिंह यादव की कहानी, क्या सच में बाहुबली विधायक है दीपक ?
Breaking News
दीपनारायण सिंह यादव की कहानी, क्या सच में बाहुबली विधायक है दीपक ?
दीपनारायण सिंह यादव

दीपनारायण सिंह यादव की कहानी, क्या सच में बाहुबली विधायक है दीपक ?

दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा इन दिनों मध्यप्रदेश के निवाड़ी और आसपास के क्षेत्र में विधानसभा चुनाव में विजयी हासिल करने के लिए जोर शोर से लगे हैं। युवाओं में तेजी से लोकप्रिय हो रहे दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा को झांसी ही नहीं बल्कि पूरे बुंदेलखंड में दबंग और बाहुबली विधायक के नाम से जाना जाता है। बुंदेलखंड के आमलोगों की तरह दीपक भी छोटे से गांव में पला बढ़ा, इनके घर परिवार का खर्च भी खेती किसानी से ही चलता था।

यहां के लोग आज भी यह पचाने में अक्षम हैं कि यूपी के झांसी की मोठ तहसील के बुढावली गांव के 102 नम्बर की खोली में रहने वाला दीपक आज 4 करोड़ की कोठी में क्यों और कैसे रहता हैं, साईकल से स्कूल जाने वाला दीपक आज 4-4 फॉर्च्यूनर के काफिले से क्यों और कैसे चलता है, सो उन्हें में से कुछ लोगों का जबाव होता कि कभी कम्पट लेने के लिए घर से अनाज चोरी करने वाला दीपक आज बुंदेलखंड के बालू घाटों से रेत चोरी जो करता है और पहाड़ों से गिट्टी से अपना पेट जो भरता है।

दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा की कुर्सी का किस्सा

समाजवादी पार्टी की नींव कहे जाने वाले मुलायम सिंह यादव और सपा प्रमुख उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खासमखास माने जाने वाले दीपक यादव यूपी के झांसी की गरौठा विधानसभा सीट से 2007 से लगातार 2 बार समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ कर विजयी बने, हालांकि तीसरी बार 2017 में दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा को इसी सीट से हार का सामना करना पड़ा। जिसका ठीकरा वह अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस के पूर्व मंत्री और इसी सीट से दीपक के बिपक्ष में चुनाव लड़ने वाले राजा रणजीत सिंह के सिर फोड़ चुके हैं। अब वह मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 में हाल ही में जिला बनाये गए निवाड़ी जिले से चुनावी मैदान में हैं। इसके पहले 2008 में दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा की पत्नी मीरा यादव यहां से विधायक थीं। कहा जाता है दीपनारायण ने अपना पहला विधायिकी का चुनाव 2003 में मध्यप्रदेश से ही लड़ा था, जिसमें उन्हें शिकस्त मिली थी।

आपराधिक इतिहास भी है युवाओं के लोकप्रिय नेता दीपक यादव का

जब बुंदेलखंड में 2 पक्षों के बीच लड़ाई झगड़ा, या स्कूल लाइफ में फेंकने का सीजन आता है तो यहाँ लोग किसी बड़े दबंग का नाम बताकर खुद की नाक ऊंची करने से गुरेज नहीं करते। कुछ ऐसा ही हाल सपा नेता दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा का है यह जितने दबंग और बाहुबली कहे जाते हैं उतने ही लोकप्रिय हैं। इन्हें युवा क्रिकेट टूर्नामेंट का शुभारंभ करने बुलाते हैं, सो नेता जी भी पहुँच जाते हैं फिर चाहे वह बुंदेलखंड के हिस्से में आने वाला कोई भी जिला क्यों न हो। नेता जी बल्ला भी चलाते हैं गांव की पिचों से लेकर यूपी के सीएम अखिलेश तक के साथ उनका बल्ला चला है।

घर बुलाकर ठुकाई की बात सच या.

लेकिन युवाओं के लोकप्रिय दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा की घर बुलाकर ठुकाई करने बाली बात ज्यादातर लोगों से सुनने को मिलती है। आलम यह है कि जब भी यहाँ के लोग सन्नी देओल की इंडियन फ़िल्म का वो सीन जिसमें सन्नी देओल गुंडे द्वारा दफ्तर में आकर परमिशन मांगता है” देखते तब तब दीपक के चंगुल में फंसे उन लोगों पर तरस जरूर खाते हैं। कहा जाता है कि जो दीपक के काम में दिमाग लगाता है दीपक उसकी घर बुलाकर खातिरदारी करते हैं फिर चाहे वह कार्यकर्ता या पार्टी का नेता या अफसर ही क्यों न हो।

30 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं दीपनारायण सिंह यादव

नामांकन दाखिल करने के दौरान दिए गए हलफनामा के मुताबिक दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा 27 करोड़ प्लस रुपये की संपत्ति के मालिक हैं। जिसमें लगजरी फॉर्च्यूनर, ऑडी समेत कई कारें, झांसी एलआईसी बिल्डिंग के पाश बनी करीब 4 करोड़ के आसपास की कोठी, जगह जगह जमीन, कंट्रक्शन, ग्रेनाईट, रियल एस्टेट, शेयर बाजार समेत कई जगह रुपयों की दुकान है। आपको बता दें यह सम्पत्ति हलफनामे में दी गई जानकारी के अनुसार है। इसमें कितना झोल है इसका अंदाजा आपको ही लगाना होगा। हाँ, इतना जरूर है कि दीपक के ऊपर 5 करोड़ के आसपास की देनदारी है।

बड़ा दिलवाला कहो या राजनैतिक लाभ लेने के नेताओं द्वारा चला जाने वाला पैतरा

दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा ने मानवीयता के हिसाब से बहुत कुछ अच्छे काम भी किये है, अपने बोल से किसी को भी अपना फैन बनाने की कुब्बत रखने वाला दीपक अपने नेक काम के लिए भी जाना जाता है। ये सभी जानते हैं कि दीपक की कोई बहन नहीं है, लेकिन आज यदि कोई ये बात बोले तो जरूर उसकी बात पर कोई भरोसा नहीं करेगा। देश में शायद ही कोई ऐसा राजनेता हो जिसने सैकड़ो बहनों की न सिर्फ शादी की हो बल्कि उनका कन्यादान भी किया हो। झांसी के गुरसरांय, मोठ, समेत मध्यप्रदेश के निवाड़ी में दीपनारायण सिंह यादव उर्फ दीपक दद्दा द्वारा कराई गई सैकड़ो शादियों का मकसद भले ही कुछ रहा हो लेकिन यहां के लोगों को आज भी यह स्वीकारना होगा कि दीपक का यह काम अच्छा था। इस काम से न सिर्फ बेटियों के हाथ पीले हुए न सिर्फ एक परिवार बसा बल्कि बुंदेलखंड में अक्सर बेटी के हाथ पीले न कर पाने वाले बाप को किसी पेड़ की टहनी से लटककर मरने से रोका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*