चिप्स के पैकेट में क्यों भरी जाती है हवा ? सही जवाब सुन होगा आश्चर्य

चिप्स के पैकेट में हवा क्यों भरी होती है ? यदि यह सवाल आप लोगों से पूछा जाए तो शायद ही कोई सही जवाब दे पाए. लेकिन चिप्स के पैकेट में हवा क्यों भरी जाती है? यदि आप नहीं जानते तो इस खबर को जरूर पढ़ें। क्योंकि चिप्स के पैकेट में हवा, न तो इसलिए भरी जाती है। कि वह ज्यादा दिखाई दे, और ग्राहक इसे खरीदे और ना ही इसलिए भरी जाती है कि वह टूटने से बचे। चिप्स में हवा भरने को लेकर लोगों के दिमाग में अलग अलग तरीके की जवाब हैं। लेकिन आखिर चिप्स के पैकेट में हवा क्यों भरी जाती है? इसका सच शायद ही कोई बता पाए। आइए जानते हैं कि आखिर चिप्स के पैकेट में हवा क्यों भरी जाती है?

यह भी पढ़ें : भारत के राष्ट्रपति के बारे 14 बातें, जो जानना बेहद जरूरी है

यह बहुत बड़ा मिथक है की चिप्स के पैकेट हवा इसलिए भरा होता कि लोगो को भ्रमित करके बेचा जाता है। मैं पूछता हूं एक व्यकि को कितना बार भ्रमित किया जायेगा। और चिप्स को टूटने से बचने के लिए हवा भरा होता हैं। ऐसा होता तो बिस्कुट के भाती कोई केन में पैकेजिंग किया जा सकता था।

तो फिर क्यों भरी जाती है चिप्स के पैकेट में हवा

चिप्स के पैकेट में न तो इसलिए हवा भरी होती है। कि उसे टूटने से बचाया जा सके, और ना ही इसलिए भरी होती है कि उसका पैकेट ज्यादा बढ़ा लगे। और आसानी से ग्राहक उसे खरीदें। बहुत कम लोग जानते हैं कि चिप्स के पैकेट में हवा इसलिए भरी होती है कि उसे ज्यादा दिनों तक सुरक्षित रखा जा सके। और नमी का मौसम होने के बावजूद भी उसे शुष्क रखा जा सके। क्योंकि चिप्स हमेशा क्रंची होती है। ऐसे में यदि उसकी वास्तविक स्थिति ही बिगड़ गई तो कौन खरीदेगा चिप्स? इसलिए उसे काफी दिनों तक क्रंची रखने के लिए हवा भरी होती है।

यह भी पढ़ें : मछला हरण की कहानी, 11 सवाल जो आज भी खोजते हैं बुन्देलखण्ड के लोग

कौन सी हवा भारी होती है चिप्स के पैकेट में

अब सवाल यह है कि आखिर चिप्स के पैकेट में कौन सी हवा भरी होती है? या फिर यही साधारण हवा भरकर इसे पैकिंग किया जाता है। तो इसका जवाब भी हम आपको दे रहे हैं। चिप्स के पैकेट में साधारण हवा ना भरकर नाइट्रोजन हवा भरी जाती है। इसमें केवल और केवल नाइट्रोजन हवा ही भरी जाती है।

नाइट्रोजन ही क्यों कोई और क्यों नहीं

चिप्स के पैकेट में आखिर नाइट्रोजन गैस क्यों भरी जाती है? इसके अलावा कोई और गैस या हवा उस में क्यों नहीं भारी जाती। दरअसल चिप्स के पैकेट में नाइट्रोजन गैस को इसलिए भरा जाता है। क्योंकि वह निष्क्रिय गैस है। बाकी यदि अन्य किसी गैस को चिप्स के पैकेट में भरा जाएगा वह चिप्स के मोलयुसकल के साथ रासायनिक क्रिया करके उसे जहरीला या खाने योग नहीं रहने देगी। क्योंकि नाइट्रोजन क्रियाहीन अक्रिय या निष्क्रिय गैस होती है। इसलिए इसे भरने में एक तरफ चिप्स को सुरक्षित और शुष्क रखा जा सकता है। वहीं दूसरी तरफ खाने में भी कोई प्रॉब्लम नहीं होती।

आप हमें कमेंट करके हमारी खबर के बारे में अपनी राय रख सकते हैं। और यदि आपको हमारी ये ख़बर अच्छी लगी हैं, और ऐसीं खबरें आप पढ़ना चाहते हैं तो आप हमारा फेसबुक पेज Action News India को लाइक कर सकते हैं। यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं। और ट्विटर पर हमें फॉलो कर सकते हैं। ताकि तभी हमारी सारी खबरें आप तक तत्काल पहुंचे, और आप उनका आनंद उठा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: