उत्तर प्रदेश के जिले महोबा केन्द्र से उत्तर-पूर्व की ओर तकरीबन 40 किमी. दूर, हमीरपुर बॉर्डर पर स्थित खन्ना गांव की जनसंख्या लगभग 5000 है. मुख्य मार्ग के सटे इस गांव में आधी आबादी सवर्णों की है बाकी दलित और अन्य पिछड़ी जातियों की.

इलाका बुंदेलखंड में पड़ता है. यहां का जलस्तर बुंदेलखंड के अन्य इलाकों के मुकाबले काफी ऊपर (150-160 फुट) है लेकिन पानी बिल्कुल खारा. इसके नीचे बोरिंग कराने पर सिर्फ पत्थर निकलता है. गांव वालों ने बहुत प्रयास किया तरह-तरह की मशीने मंगवाई लेकिन नतीजा खारा ही रहा.

चंद्रावल नदी के किनारे बसे इस गांव के लोग पहले नदी के पानी से ही गुजारा करते थे. लेकिन धीरे-धीरे नदी का जलस्तर कम होता गया और पूरे साल पानी से भरी रहने वाली नदी अब सिर्फ बरसाती नदी बनकर रह गई है.

आसपास के गांवों में तो इक्का-दुक्का कुएं हैं जिनसे लोग काम चला रहे हैं, लेकिन खन्ना ग्रामसभा में एक भी मीठे पानी का कुंआ नहीं है. गांव के लोग नदी की तलहटी में छोटे-छोटे गड्ढे खोदकर उसमें इकट्ठा हुए पानी से काम चला रहे हैं.

गांव के एक बुजुर्ग रामेश्वर कहते हैं कि, ‘इधर दलित बस्ती के जितने लोग हैं सभी गड्ढों से ही पानी पीते हैं. पहले नदी की तलहटी में छोटे-छोटे गड्ढे (चूए) बनाते हैं. क्योंकि नदी का पानी मीठा होता है तो उसकी वजह से थोड़ी खुदाई के बाद रिसकर इकट्ठा हुआ मीठा पानी निकल आता है, वही हम लोग पीते हैं. पानी नहीं मिलेगा तो क्या करेंगे पीना ही पड़ेगा.’

गांव में एक तालाब भी है लेकिन इसतालाब का पानी बहुत दूषित और खारा है. इस तालाब में भैंसे नहलाई जाती हैं. यहां के लोग भी इसी तालाब के पानी से नहाते-धोते और बर्तन साफ करते हैं. गांव की सुशीला बताती हैं कि, कभी रात-बिरात प्यास लग जाए तो वे इसी पानी को छानकर पी लेती हैं. कई बार मजबूरी में बच्चों को भी पिलाती हैं.

यहां के घरों में बर्तन कम और पानी भरने के ड्रम और छोटे डब्बे बहुत मिलेंगे. एक बार जमा किया गया पानी 15 दिन तक लोग चलाते हैं जिनके पास पैसे हैं वो तो पानी खरीद लेते हैं. बाकी के हिस्से सिर्फ दुत्कार आती है.

गांव की बुजुर्ग महिला पुनिया बताती हैं कि, ‘किसी-किसी दिन गांव के प्रधान की बदौलत मीठे पानी का टैंकर आता है लेकिन हजार परिवार के गांव में एक टैंकर से कुछ नहीं होता. पानी पर पहला हक भैया लोगों (ऊंची जाति के) का बनता है. हम लोग रातभर जागकर पानी भरते हैं, कई बार पानी के लिए मारपीट भी हो जाती है. वृद्धा पुनिया गांव के एक व्यक्ति को अपनी ओर आते देख कहती हैं कि, जब तक भैया लोग हैं हमें कोई दिक्कत नहीं हो सकती है.

आप सोच रहे हैं कि इस गांव में पीने के पानी की विकट समस्या है तो आपको बता दूं कि पिछले कई सालों से यहां के लोगों ने खेती नहीं की है. आपको जानकर और हैरानी होगी कि वजह सिर्फ पानी नहीं है.

दरअसल बुंदेलखंड में ‘अन्ना प्रथा’ बहुत प्रचलित है. इस प्रथा के अनुसार लोग पानी की कमी की वजह से पशुओं को खुला छोड़ देते हैं. इस प्रथा की वजह से बुंदेलखंड में छुट्टा जानवरों की संख्या बहुत ज़्यादा हो गई है. अब यहां के किसान बारिश के भरोसे फसल अगर उगा भी लें तो ये छुट्टा जानवर उस फसल को जड़ से गायब कर देते हैं.

हर तरफ नाउम्मीदी देखकर बुंदेलखंड के लोग पलायन करने लगे हैं. पलायन का अनुपात साल दर साल बढ़ता ही जा रहा है. सवाल बहुत सारे हैं, जवाब सिर्फ पानी है.

हमीरपुर और महोबा के बॉर्डर पर स्थित खन्ना ग्रामसभा के लोग तालाब के गंदे पानी को छानकर पीने के लिए मजबूर हैं. इतने साल तक इस कठिनाई को झेलते हुए भी पूछने पर गांव की वृद्धा पुनिया इतना ही बोलीं कि, ‘गांव में एक टंकी लग जाए तो सब अच्छा हो जाय…’